Friday, 30 December 2011

आप को मुझ से बहुत प्यार है .....

आप ने मुझे बनाया है ,आप को तो पता है मेरी पसंद और नापसंद के बारे में 
पर ऐसा क्यूँ है के कुछ चीजे ऐसी बनाई आप ने जो मुझे पसंद नहीं ?
आप ने खुशियाँ बनाई मेरे लिए ,पर दुःख किस के लिए बनाये थे ?
आप ने हंसी तो बनाई मेरे लिए ,पर आंसू किस लिए बनाये थे 
आप ने प्यार बनाया मेरे लिए ,पर नफरत किस लिए बनाई?
आप ने फूल बनाते हुए मेरे ही बारे में सोचा होगा,पर कांटे तो नहीं चाहिए मुझे 
आप ने मिलन बनाया वो सुखद लगता है,पर जुदाई के पल नहीं सहने है मुझे 
आप ने जीवन बनाया उस से मुझे बेहद प्यार है,पर डर लगता है मरने के ख्याल से
किस लिए ,किस लिए बनाईआप ने वो चीजे जो मुझे   पसंद ही  नहीं  है ?
सोचती रही ,हर दिन हर पल ,सताता   रहा   ये  सवाल  मुझे  हमेशा  ही 
जीवन के दिन, महीने, साल बीतते ही रहे इस सवाल के बोझ को ढ़ोते हुए 
फिर जीवन के अनुभव इन सवालों के जवाब चुपके से में कान में बता गए 
खुशियों की कीमत दुःख के बाद ही समझ आती है 
जुदाई ही मिलन का महत्व समझाती है 
फूलों को   कांटे  ही   सम्भाले   रखते  है 
जीवन की थकन को  मृत्यु ही उतार पाती है
समझ गयी हूँ भगवन अब मैं समझ गयी हूँ 
आप ने सब कुछ मेरे ही लिए बनाया ,मुझे  हर   चीज  की  जरूरत  है 
पर मैं से सब अपनी नजर से देखा ,काश आप  की  नजर से देख पाती 
तो ये पंक्ति मैं पहले ही दोहराती ,आप कभी कुछ गलत नहीं कर सकते 
आप को मुझ से  बहुत प्यार है ,आप  को मुझ से   बहुत  प्यार है .....

13 comments:

  1. फूलों को कांटे ही सम्भाले रखते है
    जीवन की थकन को मृत्यु ही उतार पाती है

    कितना सच कह देती हैं यह पंक्तियाँ।

    सादर

    ReplyDelete
  2. फूलों को कांटे ही सम्भाले रखते है
    जीवन की थकन को मृत्यु ही उतार पाती है.... गहन अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  3. जुदाई ही मिलन का महत्व समझाती है
    फूलों को कांटे ही सम्भाले रखते है
    जीवन की थकन को मृत्यु ही उतार पाती है
    सच कहा
    नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । . नव वर्ष -2012 के लिए हार्दिक शुभ कामनाएँ ।

    ReplyDelete
  5. गहरी सोच ...!
    आपको एवं पूरे परिवार को मेरे तरफ से
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  6. Exectly,उत्तम विचार !
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  7. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें
    vikram7: आ,साथी नव वर्ष मनालें......

    ReplyDelete
  8. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  9. प्रभु से आपका संवाद बहुत ही भाया | पहले प्रश्न और फिर स्वयं ही उनके उत्तर भी | सुंदर अभिव्यक्ति |

    आपको नए साल की ढेरों शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  10. आपकी अभिव्यक्ति बहुत सुन्दर और अच्छी लगी.

    मेरे ब्लॉग पर आपके आने का मैं आभारी हूँ.

    आपके ब्लॉग का फालोअर बन गया हूँ.

    नववर्ष की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  11. कैसे कहूँ खुदा नहीं करता है मुझको याद
    हर वक्त मेरे साथ ही रहता रहा है वह॥

    नव वर्ष की मंगलकामनायें!

    ReplyDelete