Sunday, 29 January 2012

सख्त मना है

 कविताए दिमाग़ मे कभी भी अंकुरित होने लगती है
मेरे मन मे ये विचार कई बार आता है के जब मैं ही कविताओं के असमय प्रकट
होने से परेशानी मे पड़ जाती हूँ तो फिर उनका क्या हाल होता होगा जो निरन्तर
लिखते रहते है,उन के हालत की   कल्पना   करके   मैं    ने   ये   कविता लिखी है
इस रचना मे  कविताओं को बेवक्त  दिमाग़   मे ना  आने की   हिदायत   देते हुए

 उनके बेवक्त आने के कारण होने वाली परेशानी से रूबरू करवाने की कोशिश की
है ताकि वे वक्त देखकर  दिमाग में  आया करें  ...........


                सख्त मना है 

 

बाद  शाम  के,  मेरे   घर  मे    आना    सख़्त   मना  है


ग़ज़लो और कविताओ तुम को   गाना   सख़्त मना  है


बाद शाम के तो मैं गीत पिया-मिलन के गाने लगती हूँ


आँखे   राह   पर    होती   है,  श्रृंगार  सजाने   लगती  हूँ


लिखने मे कविता देर हुई ये बहाना बनाना सख़्त मना है!


बाद शाम के,   मन-पंछी   उड़   उड़   खिड़की  पर जाता है


आएगे   वो   अब   आएगे,   ये   मधुर   संदेश   दोहराता है


इस संदेश को सुनकर भी, ना   सुन   पाना   सख़्त  मना है


बाद शाम के........


बाद शाम के कान   हर  एक  आहट  सुनते  रहते  है


पिया-मिलन नज़दीक है,पल पल ये मुझ से कहते है


उस आहट को सुन कर भी,ना सुन पाना सख़्त मना है


बाद शाम के.........


बाद    शाम    के   जब   साहब   थक   कर वापस   आते  है


हम भी     आख़िर   इंसान   है,   हंसते       है   मुस्काते    है


उस हास्य-विनोद का,किसी को भी सुन पाना सख़्त मना है


बाद     शाम    कें   मेरे  घर    मे    आना    सख़्त    मना  है.




पुरानी रचना 
=========================================
अवन्ती  सिंह 
=========


आप सब नए ब्लॉग पर सादर आमंत्रित है 
 गौ वंश रक्षा मंच gauvanshrakshamanch.blogspot.com

48 comments:

  1. जितना चाहे मना रहे,
    प्रेम सदा ही बना रहे,

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया प्रवीण जी .....

      Delete
  2. :-)

    आप कहें तो हम भी कविता पर पहरे बिठवा दें.......

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji nahin :) ye to pyaar bhri shikaayt hai kavitaon ko,in ke bina hum aur aap rak bhi nahi payege..... rachna pasnd karne ke liye shikriya....

      Delete
  3. बेहतरीन अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  4. अदभुत रचना, ह्रदयस्पर्शी पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  5. बहुत ख़ूबसूरत भावमयी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया कैलाश जी .......

      Delete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 30-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. rachna pasand karne aur manch par ise sthaan dene ke liye shukriya aap ka....

      Delete
  7. Replies
    1. shukriya nirantar ji,tarif karna bilkul mna nahi,dil khol ke taarif likhe :)

      Delete
  8. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति!
    वैसे लाख पहरे लगाओ, वे बेवक्त आएँगी ही|

    ReplyDelete
  9. कविता इतनी ज्यादा सुन्दर इसे क्या पढ़ना नहीं मना है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya dinesh ji, padhna mana nahi hai shauk se padhiye :)

      Delete
  10. प्रेमपगी रचना ...सुंदर भाव....

    ReplyDelete
  11. कल 31/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  12. असली कविता प्रेम की ही उपज होती है।

    ReplyDelete
  13. इनपर कोई पहरा काम नहीं करता ... :) बहुत ही अच्‍छा लिखा है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji haan aap ne bilkul theek farmaya,shukriya aap ka

      Delete
    2. बाद शाम के कान हर एक आहट सुनते रहते है

      पिया-मिलन नज़दीक है,पल पल ये मुझ से कहते है

      उस आहट को सुन कर भी,ना सुन पाना सख़्त मना है.waah....very nice.

      Delete
  14. वाह, सख्त मना है तो भी गुस्ताखी कर ही देता हूं कॉमेंट करने का... पर अभी शाम नहीं हुई है।
    बहुत बहुत बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  15. अच्छा हुआ आपने ये नहीं कहा की टिप्पणी करना सख्त मना है :-)

    ReplyDelete
  16. ज़बरदस्त अभिव्यक्ति.
    आपने मेरे ब्लॉग पर टिप्पणी दी ,आभार.
    मेरी ग़ज़ल आपने fb पर share करने की सूचना दी पर आपको fb पर ढूंढूंगा कैसे?
    fb पर आपके नाम के कई लोग हैं.यदि अपनी id बता दें तो ढूंढ पाऊँगा.
    मेरी id है :-kunwar.kusumesh@gmail.com

    ReplyDelete
  17. सादर नमस्कार.....
    आप चिंता न करें मैं ने आप की रचना आप के नाम के साथ ही रखी है आप मेरी वाल पर आकर देखियेगा....
    racna pasnd karne ke liye aap ka shukriya....

    ReplyDelete
  18. अच्छा किया जो सही वक्त पर हिदायत दे दी.

    सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  19. Waah bahut sundar abhivyakti...Badhai!

    ReplyDelete
  20. वाह बहुत खूब ...शब्द शब्द दिल के करीब

    ReplyDelete
  21. अपने अपने प्रेम का अपना अपना अंदाज, बढ़िया रचना.

    ReplyDelete
  22. ज़बरदस्त अभिव्यक्ति.प्रेम की ही उपज है|

    ReplyDelete
  23. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  24. पर कविता भी तो उसी समय आती है जब मधुर मिलन होता है ... ये कविता भी तो प्रेम की सहज उत्पत्ति है ...
    बहुत ही लाजवाब ख्याल को शब्दों का रूप दिया है ...

    ReplyDelete
  25. सुंदर अभिव्यक्ती ....

    ReplyDelete