Thursday, 15 March 2012

अबोला वादा



बहुत साल पहले ,एक ढलती हुई शाम में
मेरे हाथों को थाम कर अपने हाथों में ,
अपनी अमृत छलकाती हुई आँखों से
मेरी शर्माती हुई आँखों में झांकते हुए 
तुम ने नहीं कहा ,के तोड़ लाओगे 
सितारे मेरे लिए .........
तुम ने नहीं खाईं कसमें सात जन्मों की 
बस आँखों ही आँखों में किया था एक 
बिना शब्दों का अबोला वादा, के
मेरी हर सांस को  तुम महकाओगे 
खुशियों की अनोखी महक से ......


उस के बाद, हम ने ना जाने कितने 
पतझड़ ,सावन ,बसंत, बहार के 
मौसम देखे ,आंधी और तूफानों
ख़ुशी और गम को जीया है साथ -२

पर मुझे तुम्हारी आँखों में हमेशा अडिग 
नज़र आता रहा है वो अबोला वादा 
तुम ने अपनी हर सांस में जीया है 
और   निभाया   है  उस  वादे  को 
जो तुम ने कभी कहा ही नहीं .....
===========================
अवन्ती सिंह





  

27 comments:

  1. कभी कभी बिना कुछ कहे ही सब सुनाई दे जाता है....
    दिल से दिल की राह होती है...
    सुन्दर ..बहुत सुन्दर रचना अवंति जी..

    ReplyDelete
  2. कई बार केवल एक स्पर्श ही आश्वस्त कर देता है ...की कुछ नहीं बदला ....सुन्दर रचना अवन्तिजी

    ReplyDelete
    Replies
    1. कहें इसी को प्यार, सार यही है जिंदगी ।

      बहती भली बयार, मौन करूँ मैं बन्दगी ।।

      Delete
  3. Achchhi kavita Dil se nikal kar dil tak pahunchni chahiye- jaise yeh kavita.
    Sundar Kriti. Badhai.

    ReplyDelete
  4. कुछ कह के मुकरते है कुछ बिन कहे ही निभाते रहतें है ! रूहानी रिश्तों की गहराई महसूस कराती रचना !
    आभार !

    ReplyDelete
  5. जो वादे नहीं किये, उनपर ही आशाओं का अधिकतम भार होता है।

    ReplyDelete
  6. हर वादे को कहना ज़रूरी नहीं
    खामोशी से किये वादों को दिल पहचानता है

    ReplyDelete
  7. आप आयें --
    मेहनत सफल |

    शुक्रवारीय चर्चा मंच
    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. बिना बोले किया गया वादा ख़ूबसूरती से निभाया गया ..
    इस दबे छिपे प्यार की मीठी सी दास्तान ने लुभाया बहुत !

    ReplyDelete
  9. कुछ वादे ऐसे होते है जिन्हे पूरा करके दिल को बहुत खुशी होती है|
    आत्मसंतोष की दौलत

    ReplyDelete
  10. अबोला वादा ..... ati uttam....shirshak

    ReplyDelete
  11. यही प्यार है ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. vaah avanti ji man ke bhaavon ko bahut sundarta se ek sootra me piroya hai.aapke blog par aakar achcha laga.milte rahenge.

    ReplyDelete
  13. .बहुत सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  14. वाह एक सुंदर कवि‍ता

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर.....प्यार व्यक्त भी होता है कभी शब्दों के बिना भी।

    ReplyDelete
  16. अबोले ही भरोसेमंद होते हैं , सुंदर रचना..........

    ReplyDelete
  17. रचना पसंद करके मेरा हौसला बढ़ाने के लिए आप सब का हार्दिक अभिनन्दन ...... आभार .......

    ReplyDelete
  18. सच्चा प्यार तो सदैव अबोला ही होता है..बहुत सुंदर भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  19. ख़ूबसूरत रचना.

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर भावमयी प्रस्तुति:-)

    ReplyDelete
  21. खूबसूरत अहसासों से रची गई सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी रचना। बधाई।

    ReplyDelete




  23. मुझे तुम्हारी आँखों में हमेशा अडिग
    नज़र आता रहा है वो अबोला वादा

    तुम ने अपनी हर सांस में जीया है
    और निभाया है उस वादे को

    जो तुम ने कभी कहा ही नहीं .....


    आदरणीया अवन्ती सिंह जी
    सादर अभिवादन !

    मैं आपको बता नहीं सकता कि आपकी इस कविता की ईमानदारी मेरे लिए कितनी सुकूनबख़्श है …
    आभार !
    सुंदर भाव ! सुंदर कविता !

    हार्दिक शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…

    ReplyDelete