Saturday, 18 February 2012

पता नहीं

एक गीत लिखने का मन है 
ढूँढ़ रही हूँ कुछ नए शब्द
जो बिलकुल अनछुए हो 
न कभी पढ़े ,ना कभी सुने हों 
मन की असीम गहराई में जा कर 
बहुत कोशिश की मोतियों से शब्द पाने की
पर नाकाम रही ,मन की असीम गहराई में 
उतरने के बाद जो संगीत सुना ,वो बिलकुल नया 
और अनसुना था,पर उन शब्दों  को कागज़ पर किस तरह 
उकेरा जायेगा ,ये बोध अभी नहीं हुआ है ,जाने कब सीख
पाऊँगी उन शब्दों को लिख पाना ,और कब बनेगा  नए शब्दों 
से सजा नया गीत,कुछ दिनों में,कुछ साल में या किसी नए जन्म 
तक प्रतीक्षा करनी पड़ेगी पता नहीं ................

(अवन्ती सिंह)



28 comments:

  1. आपकी तलाश जरुर होगी.... गीत जरुर लिखेंगी.....

    ReplyDelete
  2. जब संगीत गूँज उठा है तो वह बरबस कागज़ पर उतर ही जायेगा और शब्द स्वयं ही चले आएँगे माध्यम बनकर। शुभकमना !

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना।
    गहरी अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  4. मन का सम बनाये रखिये, भाव स्वतः ही आ जायेंगे।

    ReplyDelete
  5. Khayalon mein safar karte rahein, naye shabd avashya milenge...

    Aur hum sab yahan unhe padhne ke liye taiyar hain....subhkamnayein....

    ReplyDelete
  6. आपको एहसास नहीं...गीत तो बन गया....

    ReplyDelete
  7. वाह!!!!!गीत तो बन गया,अच्छी रचना,.....

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    ReplyDelete
  8. मन की असीम गहराई में
    उतरने के बाद जो संगीत सुना,
    वो बिलकुल नया और अनसुना था

    मन की सुन्दर अभिव्यक्ति!
    बहुत शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  9. अनछुए शब्दों की तलाश करना ही कविता के सृजन की पूर्वपीठिका है।

    ReplyDelete
  10. आज 21/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  12. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच
    पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर भाव..... शब्द अवतरित होते रहें बस...!

    ReplyDelete
  14. बस युही भावनाओं में खोते रहिये, गीत बनते जायेंगे

    ReplyDelete
  15. अनछुए से शब्द .... सुंदर भावभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. प्रेम के तो कोई शब्द नहीं होते ... फिर उनको बांधना आसान कहाँ होगा ....
    ये तो महसूस करने के लिए हैं ... सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  17. छंद और बंद्ध से मुक्त सिर्फ जज़्बात मायने रखते हैं।

    ReplyDelete
  18. जरुर लिख लेंगी गीत.....मिल जायेगे शब्द आपको....

    ReplyDelete
  19. Sanjivani mudra ke bareme jaankaaree deneke liye bahut,bahut dhanywaad!

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब ...बेहतरीन भाव संयोजन ।

    ReplyDelete
  21. कुछ न कहते हुए भी बहुत कुछ कह गयीं अवन्तिजी ...सुन्दर !

    ReplyDelete
  22. और कब बनेगा नए शब्दों
    से सजा नया गीत...


    बहुत सुन्दर रचना... हम भी रहेंगे उस गीत की प्रतीक्षा में..

    ReplyDelete